Muzaffarpur

SKMCH में एक और चमकी बुखार से ग्रस्त बच्चे की हुई भर्ती | अभी तक कुल 57 शिशु इसके चपेट में आ चुके हैं

count of AES suffering children rises to 57 in muzaffarpur with one new case from east champaran

SKMCH Muzaffarpur में मंगलवार को पूर्वी चंपारण के हनुमाननगर राजेपुर के एक डेढ़ वर्ष आयु के बच्चे आर्यन कुमार में एईएस यानी चमकी बुखार की पुष्टि हुई है। आपको बताते चले की Acute encephalitis syndrome (AES) या आम भाषा में चमकी बुखार के नाम से जाने वाले इस बीमारी का प्रकोप उत्तर भारत और खासकर के मुजफ्फरपुर जिले में काफी है |
सोमवार की देर रात को इस बीमार बच्चे को भर्ती कराया गया था। पीआईसीयू (PICU ) के AES वार्ड में उसका इलाज चल रहा है। बच्चे की जांच रिपोर्ट शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ. Goplashankar ने अधीक्षक व अन्य वरीय अधिकारियों को दी है।

डॉक्टर ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पुष्टि के बाद देर रात को एईएस की श्रेणी में बच्चे को रखा गया। इलाज के बाद से उसमें आंशिक सुधार है। इधर, जूरनछपरा स्थित केजरीवाल हॉस्पिटल में भर्ती कुढ़नी के एईएस पीड़ित बच्चे में भी सुधार है। खुसी की बात यह है कि उसका ब्ल्ड शुगर लेवल 25 से अधिक हो गया है।

watch latest news of Bihar click here

Advertisement

इस साल अभी तक SKMCH व केजरीवाल अस्पताल में उत्तर बिहार के 57 एईएस पीड़ित बच्चों का इलाज हुआ है। इनमें 8 बच्चे की मौत की पुस्टि हो चुकी है।
जबकि Health Department के रिकार्ड में AES से मृत्यु का आंकड़ा सात ही है। दरअसल, चमकी बुखार से पीड़ित व ब्लड शुगर कम होने से गंभीर हालत में शिवहर तरियानी प्रखंड के सोनवर्षा के 18 माह के दिलराय की मौत केजरीवाल अस्पातल से रेफर होने पर रास्ते में हो गई थी। SKMCH मुजफ्फरपुर में पीआईसीयू काउंटर पर ही इलाज के दौरान डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

मृत होने वाले बच्चों में चार Muzaffarpur के हैं। एक समस्तीपुर, एक वैशाली व दो शिवहर के बच्चे शामिल हैं। अब तक इस साल मुजफ्फरपुर जिले में कुल 27 बच्चे एईएस से पीड़ित हुए हैं। इसी तरह पूर्वी चंपारण में 13, सीतामढ़ी के चार, शिवहर के छह, समस्तीपुर के एक, वैशाली के तीन व पश्चिमी चंपारण के तीन बच्चे में एईएस की शिकायत मिली है।

like us on facebook click here

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button
Close